सुहागरात की रात क्या होता है? Suhagrat Tips:- Suhagraat Ki Raat Kya Hota Hai

Pankaj Thakur
0

शादी की पहली रात को सुहागरात (Suhagrat) कहा जाता है। सुहागरात सभी के जिंदगी का एक अहम हिस्सा माना जाता है। इस रात को लेकर लोगों के मन में कई तरह के प्रश्न होते हैं। इस रात में लड़का व लड़की दोनों में ही समान उत्सुकता रहती है। सामान्य तौर पर सुहागरात का मतलब नव दंपति का शारीरिक रूप से एक होना माना जाता है। लेकिन जिंदगी की इस खास रात को इतना ही समझ लेना गलत होगा। दरअसल शादी के बाद सुहागरात ही पति-पत्नी के नए जीवन की वह पहली रात होती है, जिसमें वह दोनों एक साथ होते हैं। 

suhagraat-ki-raat-kya-hota-hai
सुहागरात की रात क्या होता है?

शादी की पहली रात को लेकर पति व पत्नी दोनों के मन में उत्सुकता के साथ घबराहट भी बनी रहती है। इस विषय पर लोगों की उत्सुकता और घबराहट को देखते हुए आज आपको suhagraat ki raat kya hota hai के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। इसके साथ ही आपको यह भी बताएंगे कि सुहागरात क्यों मनाई जाती है और इसको मनाने का सही तरीका क्या है। इसके अलावा आपको यहां सुहागरात मनाने के टिप्स भी बताए जा रहें हैं।

    सुहागरात की रात क्या होता है?

    hindi suhagrat, suhagrat, suhagrat ki raat kya hota hai

    भारतीय समाज में विवाह और इससे जुड़े रीति-रिवाज़ों पर खुलकर चर्चा होती है लेकिन सुहागरात पर कोई चर्चा नहीं होती। सुहागरात का नाम आते ही हर कोई चुप्पी साध लेता है। क्यों की सुहागरात के नाम से हर कोई शर्मा जाता हैं। सुहागरात के बारे में खुलकर बात करना भारतीय समाज में अच्छा नहीं माना जाता। 

    सुहागरात के दिन कई परंपरायें होती हैं। दुल्हन की विदाई के बाद ससुराल आकर दुल्हन के स्वागत में चावल का घड़ा, आलता का थाल, कंगना खिलाई, थापा जैसी रस्में भी होती हैं।

    दुल्हा–दुल्हन के कमरे को फूलों से सजाया जाता है। इसके बाद रात के समय दुल्हन को बादाम और केसर वाला दूध देकर पति के कमरे में भेजा जाता है। यही से सुहागरात की शुरूआत हो जाती है। कमरे में आने के बाद सजी हुई दुल्हन अपने पति का इंतजार करती है।

    दुल्हा कमरे में आकर दुल्हन का घूंघट उठाता है और मुंह दिखाई करता है। इसके बाद दोनों एक-दूसरे से कई कस्में और वादें करते हैं। अपने नए जीवन की शुरूआत करते हुए पति अपनी पत्नी को उपहार देते है। दोनों नए जीवन के लिए कई सपने बुनते हैं। और दो आत्माओं का मिलन होता हैं और दो जिस्म एक जान बन जाते हैं। 

    Suhagrat : शादी की पहली रात को सुहागरात क्यों बोलते हैं , जानें इसके पीछे का कारण

    सुहागरात की शुरुआत कैसे करें?

    Suhagrat ki shuruat kaise kare in hindi
    suhagrat, hindi suhagrat, suhagrat me kya hota hai

    सुहागरात की रात के रीति-रिवाज़ शादी के बाद जब दुल्हन घर आती हैं उसी समय से शुरू हो जाती हैं। ये तब तक चलते है जब तक दुल्हन अपने कमरे में अपने पति के साथ नहीं चली जाती है। जब लड़की शादी के बाद विदा होकर लड़के के घर यानि अपने ससुराल आती है तो ससुराल में प्रवेश करने के साथ ही रीति रिवाज़ शुरू हो जाते हैं। जैसे द्वार रुकाई, द्वार पर चावल के कलश को पैर से गिराकर घर में प्रवेश, द्वार पर छापे लगाना, अपने पैरो के निशान बनाना आदि।

    इस प्रकार हर लड़की को शादी के बाद कई तरह के रीति-रिवाज़ों से गुजरना पड़ता है और इसी के साथ शुरुआत होती है सुहागरात के कुछ रीति-रिवाज़ों की। ऐसे में आइये समझने की कोशिश करते हैं कि सुहागरात में क्या-क्या होता और कैसे इसकी शुरुआत होती है।

    सुहागरात के रीति-रिवाज़ों में शामिल हैं : -

    दुल्हन की आरती और स्वागत

    शादी के बाद दुल्हन जब विदा होकर पहली बार अपने ससुराल आती है तो ससुराल के दरवाज़े पर लड़के और लड़की को रोक दिया जाता है। जिस प्रकार लक्ष्मी माता को घर में लाने के लिए पूजा और आरती की जाती है। उसी प्रकार घर के दरवाज़े पर दुल्हन की आरती करके उसका घर में स्वागत किया जाता है। फिर लड़की को चावल से भरे कलश को पैर मारकर गिराने को कहा जाता है। उसके बाद लड़की के हाथों में हल्दी और कुमकुम लगाकर घर के मुख्य दरवाज़े पर उसके हाथों के छापे लगए जाते हैं।

    दुल्हन के पैरों के निशान

    छापे लगवाने के बाद दुल्हन को घर में प्रवेश करते समय अपने पैरों के निशान लगाने को कहा जाता है। इसके लिए रोली के पानी की थाल में दुल्हन को पैरो को डुबोते हुए घर के प्रवेश द्वार से घर के मंदिर तक निशान लगाने होते हैं। इस प्रकार दुल्हन का गृहप्रवेश होता है। और सब फूलो से स्वागत करते हैं। 

    पितृ पूजन

    जब लड़की शादी के बाद घर में आती है तो परिवार वाले उसको सीधा घर के मंदिर या पूजा वाले स्थान पर लेकर जाते हैं।वह पर लड़की और लड़के को साथ में पितरो और घर के भगवान की पूजा करने को कहा जाता है। इसी के साथ लड़की अब घर का सदस्य हो जाती है।

    अन्य रीति रिवाज़

    गृहप्रवेश और पितृ पूजन के बाद दुल्हन को घर वालों और रिश्तेदारों के साथ बिठाया जाता है जहाँ पर कुछ अन्य रीति रिवाज़ किये जाते हैं जैसे - कंगना खेलना, शांति मारना, देवर का भाभी की गोदी में बैठना आदि। इसके बाद दुल्हन को नहा धोकर श्रृंगार करके कुछ अन्य रस्म जैसे सर गुंडी, नंदों और साँस का नेक आदि की रस्में पूरी की जाती है। फिर दुल्हन का रिश्तेदारों से मिलवाया जाता है।

    मुंह दिखाई की रस्म

    जब नयी नवेली दुल्हन घर में आती है तो सभी रिश्तेदार अपना परिचय देते हुए दुल्हन को मुँह दिखाई देते हैं। जिसमें कुछ तोहफे दिए जाते हैं। इस प्रकार दुल्हन के साथ सभी रस्में खत्म हो जाती हैं इसके बाद दुल्हन को उसके कमरे में भेज दिया जाता है, जिसको पहले से ही सजाया गया होता है। इसी प्रकार सुहागरात की शुरुआत होती है।

    क्या आप भी शेयर बाजार में इन्वेस्ट करके पैसा कमाना चाहते हैं। 

    अगर आप भी Upstox में अपना Demat Account खोलना चाहते है तो Click करे 


    https://upstox.com/open-account/?f=5LS8

    👉 Upstox Demat Account खोले 

    शादी की पहली रात क्या न करें - What not to do on first night in Hindi

    सुहागरात आपकी जिंदगी की अहम रात होती है। इस रात ऐसी कोई गलती न करें जिससे आपको सारी जिंदगी शर्मिंदगी महसूस हो। इस दौरान निम्न गलतियों को करने से बचें।

    नशे से दूर रहें – 

    शादी की पहली रात खुद को जोशीला बनाने के लिए अधिकतर लोग शराब और धूम्रपान आदि नशा करते हैं। शादी के बाद आप दोनों ही इस नए रिश्ते की शुरुआत करते है ऐसे में नशा करना आपके रिश्ते पर खराब असर डाल सकता है। इसके साथ ही नशा करने से आपकी यह महत्वपूर्ण रात भी खराब हो सकती है। सुहागरात मनाने के तरीके में आपको नशे से दूर रहने की बात को हमेशा याद रखनी चाहिए।

    अपने जीवनसाथी पर शक न करें

    कई बार लोग सुहागरात को अपने जीवनसाथी को शक भरी निगाहों से देखते हैं. इससे उन हसीन लम्हों का मजा तो किरकिरा होता ही है रिश्ते की बुनियाद भी कमजोर पड़ जाती है. बेहतर यह होता है कि दोनों एक-दूसरे के अतीत की बातें न करे, जो जीवन सामने है, उसे सजाने-संवारने की कोश‍िश करे। 

    कोई एक्सपेरिमेंट ना करें

    अक्सर पुरुष सुहागरात पर ही नए-नए एक्सीपेरिमेंट की योजना बनाते हैं। अगर आपके दिमाग में भी ऐसे कोई ख्याल हैं तो उसे तुरंत भूल जाएं। आप ध्यान रखें कि आप दोनों नई जिंदगी की शुरूआत करने जा रहे हैं ऐसे में साथी को पूरी तरह से बिना जानें, बिना समझे एक्सपेरिमेंट करना आपके नव-जीवन में खलल डाल सकता है।

    निष्कर्ष

    suhagrat, hindi suhagrat, suhagrat me kya hota hai, हिंदी सुहागरात

    सुहागरात हर व्यक्ति के जीवन में आने वाली सबसे अहम रात होती है। लेकिन आज के ज़माने में सुहागरात के मायने बदल गए है और आजकल पति और पत्नी का आपस में सहज होना अधिक जरूरी होता हैं।

    सुहागरात सिर्फ दो जिस्मों का मिलन नहीं बल्कि एक नए जीवन की शुरूआत भी होती है।



    एक टिप्पणी भेजें

    0टिप्पणियाँ
    एक टिप्पणी भेजें (0)