इस साल भादो महीने के शुक्ल पक्ष को तीज यानी हरतालिका तीज-30 अगस्त, दिन मंगलवार को मनाई जाएगी।Teej 2022

Pankaj Thakur
0
 तीज (हरतालिका) के दिन भगवान शंकर माता पार्वती और गणेश जी की पूजा की जाती है।इस व्रत को करने के लिए सबसे पहले कच्ची मिट्टी या गाय के गोबर से शंकर जी,पार्वती जी और गणेश जी की प्रतिमा बनाकर किया जाता है। इस व्रत को महिला अपने पति की लंबी उम्र की कामना के लिए करती है।जिसको विधि विधान से करने से वह महिला सदा सुहागन रहती है।इस व्रत को सबसे पहले माता पार्वती ने किया था शिवजी की प्राप्ति करने के लिए।
इस व्रत का सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हरतालिका व्रत कथा अवश्य सुननी चाहिए।हर सुहागन स्त्री को यह व्रत करना चाहिए जो नहीं करती है वह घोर नरक में जाती है,इस दिन अनाज खाने से सुकरी,फल खाने से बंदरिया,पानी पीने से जोक, दूध पीने से सांप,मांस खाने से बाघ,दही खाने से बिल्ली,मिठाई खाने से चींटी और सब खाने से मक्खी में जन्म होता है।इस दिन सोने से अजगर में जन्म होता है।
 इस व्रत को करने के लिए विधि:–
1–इस दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखती है।इस व्रत में दिन और रात भोजन और जल ग्रहण नहीं करती है।
2–इसमें सभी प्रकार के फल,मिठाई,पकवान,वस्त्र और सिंगार का सामान इत्यादि चढ़ती है।
3–इसमें महिलाएं रात भर जगती है और भगवान शिव की कथा,आरती और हवन करती है।
4–अगले सुबह को कलश को विसर्जन करके भोजन और जल ग्रहण करती है।सबसे पहले कोई फल खाकर व्रत को तोड़ा जाता है।

हरतालिका तीज पर शादी सुदा औरत अपने पति की लंबी उम्र और कुंवारी कन्याएं मनचाहा वर पाने के लिए व्रत रखती हैं. इस दिन व्रती औरत नर्जला और निराहार व्रत रखकर भगवान शिव और माता पार्वती की उपासना करती हैं।

  • इस साल भादो महीने के शुक्ल पक्ष को तीज यानी हरतालिका तीज 30 अगस्त, मंगलवार के दिन मनाई जाएगी।
 

डिसक्लेमर : इस पोस्ट में दी गई जानकारी की प्रामाणिकता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं से संकलित करके यह सूचना आप तक पेश की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है।पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही अनुपालन करे।










एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)