Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai। सच्चे मेहबूब और आशिक को कैसे पहचानेंगे जानिए

Pankaj Thakur
0

अगर आपने भी किसी न किसी से कभी सच्चा प्यार किया है तो आपको इसके बारे में जरुर जानना चाहिए। इसी कारण से हम आपको इस पोस्ट में बताने वाले हैं pyar ka matlab kya hota hai  तो अगर आप भी सच्चे प्यार का मतलब जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े। 

pyar ka matlab kya hota hai
Pyar ka matlab kya hota hai

Pyar ka matlab kya hota hai- अक्सर आप ने फिल्मो में देखा होगा की हीरो और हीरोइन को पहली ही नजर में एक दूसरे से प्यार और इश्क़ हो जाता है। वो एक दूसरे पे मर मिटते हैं। घर छोर के भाग जाते हैं। मगर असल जीवन में ऐसा फिल्मो जैसा प्यार बिलकुल भी नहीं होता हैं। आज के समय में सच्चे प्यार का मिलना बहुत ही मुश्किल होता है। कई बार हमारे मन में सवाल आता है कि आखिर प्यार का मतलब क्या होता है | Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai आज की हमारी इस पोस्ट में हम आपको प्यार से जुड़ी बातें बताने वाले हैं। वैसे तो प्यार को परिभाषित नहीं किया जा सकता पर इसके बारे में समझा जा सकता है की Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai और इसकी कोई सीमा है या नहीं। वैसे तो आजकल के ज़माने में सच्चे प्यार का मिलना मुश्किल है पर फिर भी कई ऐसे उदहारण हैं जो इस बात को साबित करते हैं की अभी भी सच्चा प्यार करने वाले जिंन्दा है।

Pyar ka matlab kya hota hai | प्यार का मतलब क्या होता है

Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai:- प्यार एक खूबसूरत एहसास है जिसको हम शब्दों से बया नहीं कर सकते हैं। प्यार एक खूबसूरत एहसास होती हैं। जिसको सिर्फ हम महसूस कर सकते हैं। जब इंसान किसी से प्यार में होता है तो वह हमेशा उसके बारे में सोचता है और ज्यादा से ज्यादा उसके साथ वक्त बिताना चाहता हैं। हमेशा उनके करीब जाना जाता है, अगर आप किसी से सच्चा प्यार करते हैं, तो उनसे कोई स्वार्थ नहीं होना चाहिए। क्योंकि प्यार जो होता है निस्वार्थ होता है, प्यार में वह ताकत होती है जिससे आप किसी का भी दिल जीत सकते हैं। बल्कि आप पूरी दुनिया जीत सकते हैं। अगर आप किसी से प्यार में है तो आप कभी भी उनको तकलीफ नहीं देना चाहेंगे। वही खुद उनकी खुशी के लिए कितने भी तकलीफ झेल ले और उनको कभी उदास नहीं करेंगे।

प्यार को प्रेम, मोहब्बत, इश्क़ के नाम से भी जाना जाता है। किन्ही दो इंसानों को एक दूसरे के साथ रिश्ता बनाये रखने के लिए प्यार जैसे एहसास का होना जरुरी हैं। अगर उनके बीच प्यार नहीं है तो वह रिश्ता ज्यादा दिन तक नहीं चल सकता। किसी के साथ रिलेशनशिप में होना और किसी से प्यार करना दोनों ही अगल-अलग चीज़ें हैं। कई बार हम किसी के साथ रिश्ते में तो होते हैं पर वहां पर प्यार का आभाव होता है। तो आगे पढ़िये Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai.

सच्चे प्यार की परिभाषा । Sacche Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai

Sacche Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai:- सही मायने में प्यार का मतलब वही समझ सकता है जिसने कभी न कभी किसी इंसान और जानवर से प्यार किया हो और वही इंसान प्यार को शब्दों में बयां कर सकता है कि प्यार एक सच्चा एहसास है जो कभी भी किसी को भी हो सकता है कही भी। 

जब हम सब प्यार में पड़ते हैं तो वो प्यार कब हमारे जीवन में भर जाता है, हम सब को पता भी नहीं चलता कि प्यार के भी कई रूप होते हैं, सबसे पहले हमारे अंदर भावनाएं होती हैं और फिर वो एहसास लगाव में बदल जाता है। हमारा यह लगाव जब किसी से बढ़ता चला जाता है तो यही लगाव प्यार में बदल जाता है।

जब भी हम सभी प्यार में पड़ते हैं तो हम सभी सामने वाले पर बहुत ज्यादा भरोसा करने लगते हैं और इस वजह से प्यार और भी गहरा हो जाता है। जब भी विश्वास के साथ प्यार होता है तो वो एहसास बहुत अच्छा होता है और जब हम समझ जाते हैं कि Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai तो हम बिना किसी परेशानी के सामने वाले के साथ आराम से रह सकते हैं जब ये सब होने लगता है और हमें पता चल जाता है प्यार का सही मतलब क्या है।

आप किसी से प्यार करते हैं तो आपका दिमाग सोचना बंद कर देगा आपको फर्क नहीं परेगा की आपने जिससे प्यार किया है उसने आपके साथ ख़राब किया है या अच्छा। आपको फर्क पड़ना बंद हो जायेगा क्यूंकि आप दिल से उसे चाह रहे होंगे। आप जब तक खुद को नहीं मिटा देते आप कभी भी सच्चे प्रेम को नहीं जान सकते। क्यूंकि सच्चे प्रेम में आपका अस्तित्व नहीं रहता आप “आप’ नहीं रहते। जिससे प्यार करते हैं वह यह जगह ले लेता है और आप मिट जाते हैं। यही प्यार है और जब आप सच्चे प्रेम में होते हैं तो आप अपनी पसंद -नापसंद ,अपना व्यक्तित्व,अपना सब कुछ समर्पित कर देते हैं।

प्यार और अट्रैक्शन में क्या अंतर है? Difference in Love and Attraction 

Love and Attraction :- मेरी एक बात को हमेशा दिमाग में रखना जहां पर कोई भी वजह शामिल हो तो वो प्यार नहीं हो सकता है क्योंकि प्यार हमेशा बेवजह होता हैं। प्यार हमे कभी भी बता कर नही होता है, प्यार कब और किस से हो जाए इसका अंदाजा किसी को नहीं होता हैं। यही तो प्यार की खासियत होती हैं। आपने एक कहावत भी ज़रूर सुनी होगी की ''प्यार अँधा होता है'' प्यार कभी गरीबी और अमीरी नही देखता प्यार कभी उम्र नही देखता प्यार कभी जात पात नही देखता हैं। तो ये कहावत बिल्कुल 100 % सच है इसमें कोई शक नहीं हैं। 
                                          लेकिन आजकल के पीढ़ी ने प्यार को बदनाम करके रखा हुआ हैं। आजकल के बच्चे Attraction  और Love में अंतर भी नही जानते हैं। लोग सच्चे प्यार के नाम पर एक दूसरे को खूब धोखा दे रहे हैं। इसी वजह से आज प्यार इतना ज़्यादा बदनाम हो चुका है कि सच्चा प्यार भी तलाश कर पाना बहुत मुश्किल हो गया हैं। तो दोस्तों चलिये अब मैं आपको pyar ka matlab और Attraction का मतलब समझाता हूं।

Pyar ka matlab kya hota hai – जब आप किसी इंसान के साथ जिंदगी भर रहने का ख्वाब देखते हैं। साथ जीने और मरने की कसमे खाते हैं। उसके साथ अपने जीवन के सारे पल बिताने के बारे में सोचते हैं खुद से ज्यादा उस इंसान का ख्याल रखते हैं। उसके दुख के आगे आप अपने दुख भूल जाते हैं। उसकी आंखों में आंसू देख कर आपको तकलीफ होती हैं। उसके लिए आप कुछ भी करने को तैयार होते हैं, इसी को तो प्यार कहते हैं।

Attraction क्या होता है – जब कोई लड़का या लड़की खूबशूरत लड़की या लड़का को देख कर उस पर फ़िदा हो जाता है, उसके फिगर और जिस्म से खेलना चाहता है, और जब लड़का उसके साथ खेल चुका होता है, अगर  लड़की किसी प्रॉब्लम में फसती है, तो लड़का उसका साथ देने से साफ़ मना कर देता है, लड़की के आंसू देख कर उसे कोई फर्क नही पड़ता हैं। लड़की की कहीं और शादी हो जाती हैं। तब भी उस लड़के को कोई फर्क नही पड़ता क्यूकी उस लड़के का मतलब निकल चुका होता हैं। उस लड़के को तो सिर्फ उसके जिस्म से प्यार था। उसको तो अपना हबस निकलना था। तो इसी को Attraction कहते हैं। 
                     और जब कोई लड़की किसी स्मार्ट हैंडसम लड़के को देख कर उसके सिक्स पैक और पर्सनालिटी देख कर उस पर फ़िदा हो जाती हैं। उसपे मर मिटती हैं। उसके साथ अपने जिस्म की प्यास बुझाना चाहती हैं। उसको सिर्फ इस्तेमाल करना चाहती हैं। उस लड़के से पैसा ठगना चाहती हैं। तो इसी को अट्रैक्शन कहते हैं। सरल भाषा में आप जवानी का दोष को अट्रैक्शन कह सकते हैं। 

सच्चे प्यार में जब लड़कियां होती है

अपने परेशानी से भी ज्यादा अपने महबूब के दुख से उसे दुखी होती हैं। अपने घर का सारा राज अपने प्रेमी को बताना पसंद करती हैं। अपने महबूब से अपने ऊपर कम से कम खर्च करवाना पसंद करती हैं। पहले से ज्यादा अर्जेस्ट करना पसंद करती है, ताकि उसके आशिक का इज्जत खराब ना हो जाए। अपने घर और दोस्तों के बीच में अपने जान का ज्यादा तारीफ करना पसंद करती हैं। अपने आशिक की बुराइयों को छुपाना भी पसंद करती हैं। 

सच्चे प्यार में जब लड़के होते हैं

बेकार की बातों पर ज्यादा बात करना पसंद नहीं करते और भविष्य की बातें ज्यादा करना पसंद करते हैं। लड़के को जब सच्चा प्यार हो जाता है तो उसे कभी भी छुपाना पसंद नहीं करते हैं। लड़के अपनी गर्लफ्रेंड को जरुरत से ज्यादा भरोसा करने लगते हैं। अपने से ज्यादा अपनी गर्लफ्रेंड के भविष्य की चिंता करने लगते हैं। पैसे बचाना और ज्यादा कमाने की जुगाड़ में लग जाते हैं। अपने दोस्तों से थोड़ा दूरी बनाना पसंद करते हैं। 

प्यार किस से हो सकता हैं 

ये कोई जरुरी नहीं है की प्यार लड़के और लड़की के बीच ही हो। प्यार आपको अपने परिवार से ,अपने माता पिता से ,भाई बहन से ,किसी पालतू जानवर से, समाज से, किसी देश से, किसी से भी हो सकता है। प्यार की कोई सीमा नहीं होती। जब आप कहते हैं की मैं प्यार में हूँ तो असल में आप प्यार में नहीं होते आप प्यार में तब होते हैं जब आपको अपने आस-पास हर चीज़ बहुत प्यारी लगती है किसी एक व्यक्ति या किसी वस्तु जिससे आपको प्यार होता है आप उसके ख्यालों में डूबे रहते हैं। आप हर पल उसके ही बारे में सोचते रहते हैं। आप उसके बारे में सपने देखने लगते हैं। 

लस्ट वाला प्यार

आजकल आप जिधर देखेंगे हर जगह Lust वाला प्यार ज्यादा देखने को मिलेगा। चाहे वो लड़का हों या लड़की आजकल प्यार के नाम पर अपनी जरुरत पूरी करते हैं। उन्हें शारीरिक संबंध बनाने की भूख रहती हैं। उसे अपना हबस मिटाना रहता हैं। और उसे वह प्यार की चादर से ढकने की कोशिश करते हैं। ऐसे प्यार, प्यार नहीं बल्कि इसे सेक्स कहते हैं। जो लड़के-लड़कियां एक दूसरे के साथ करते हैं। उन्हें सिर्फ शारीरिक संबंध बनाने का ही विचार हर पल रहता है। वो एक दूसरे की जरुरत को पूरा करते हैं। 

यदि कोई व्यक्ति किसी से सच्चा Pyar करता है तो वह कभी भी उसे शारीरिक सम्बन्ध बनाने के लिए नहीं कहेगा। ऐसे प्यार को प्यार का नाम देना प्यार का मजाक बनाना होगा, क्यूंकि यहाँ दूर दूर तक कोई प्यार नहीं होता सिर्फ हवस की भूख होती है। Lust love कभी भी देर तक नहीं टिकेगा और जैसे ही दोनों की जरुरत पूरी हो जाएगी वह एक दूसरे को इग्नोर कर देंगे। अपना काम बनता भार में जाये जनता ये तो आपने सुना ही होगा। 

यह भी पढ़े :-

अंतिम शब्द

आज के इस लेख में मैंने आप लोगों को बताया की pyar ka matlab kya hota hai. आशा करता हूं आपको अब प्यार के बारे में सब पता चल गया होगा अगर अभी भी आपके मन में संबंधित कोई प्रश्न हो तो कमेंट करके पूछ सकते हैं। आपके सवालों के जवाब देने में हमें बड़ी खुशी मिलती हैं। इसी तरह की और जानकारी के लिए आप हमारे ब्लॉग Tej Aadmi पर हर रोज विजिट करते रहें और अगर पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें, इससे हमें मोटिवेशन मिलता हैं। फिर हम आपको और भी अच्छी-अच्छी जानकारी प्रदान करते हैं इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ने के लिए आप सभी को दिल से धन्यवाद।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)